जानिए एक अच्छे लेखक कैसे बने ये है अच्छे लेखक की विशेषताएं

सफल लेखक मे होते हैं ये गुण

अच्छे लेखक कैसे बने, अच्छे लेखक के गुण


लेखक बनना इतना आसान नहीं है जितना सोचने मे लगता हैं कि लेखक बनने के लिए बस लिखना ही तो हैं। मगर सच्चाई ये है कि लेखक बनने मे लेखन का कुछ योगदान ही होता हैं। लेखन के अलावा बहुत से पहलू है जिनमें एक लेखक की अच्छी पकड होनी चाहिए। आज की पोस्ट में हम आपको यही बात बताने की कोशिश करेंगे कि एक लेखक बनने के लिए क्या जरूरी होता हैं।

सबसे पहले ये सोचो कि आप लेखक क्यो बनना चाहते हैं?

जी हां अगर आप लेखक बनना चाहते हैं तो आपको ये बात बिल्कुल निशंकोच मालूम होनी चाहिए कि आप लेखक क्यो बनना चाहते हैं। आपका शोक है या आप इसमे अपना करियर बनाना चाहते हैं। इसके लिए आपको एक अच्छे जिम्मेदार लेखक की तरह कार्य करना चाहिए। तभी आप एक सफल लेखक बन पाएंगे।

जाने कि लिखना क्या हैं

सबसे पहले एक लेखक को ये पता होना चाहिए कि हमें लिखना क्या हैं। कोई कहानी, उपन्यास, कविता, जीवनी आदि इनका चयन करने के बाद ही आपका अच्छे लेखक के रास्ते पर पहला कदम होगा।

चीजों को खुद से जोड़े

आप जिस भी तरह की किताब लिखना चाहते हैं। उसकी विषय वस्तु को खुद के जीवन से जोड़े अर्थात आप खुद विषय वस्तु से जुडकर महसूस करे कि यदि आप इस स्थिति में होते तो आप कैसा महसूस करते। याद रखें कि जो किताबे लेखक के जीवन से जुडी घटनाओं पर आधारित होती हैं वो किताबें ही एक सफल लेखक को जन्म देती हैं।

पहले पढ़ना सीखे

लिखने से पहले पढ़ना आवश्यक होता हैं। यदि आप किताबें लिखना चाहते हैं तो इसके लिए पहले आपको दूसरी किताबों को पढ़ना होगा। किताबों को समझे, उन्हें परखें और उनकी शब्द शैली को जाने की कैसी शब्दों को सजाया गया हैं। आप किसी भी लेखक की किताबें पढ़ सकते हैं इनसे आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा।

पूर्ण रूप से लिखे

किताबों की जितनी शुरुआत महत्वपूर्ण है उतनी ही महत्वपूर्ण उसका अंत होना चाहिए। कहां क्या लिखना है और कहां पर अंत करना हैं। इस बात पर बहुत ध्यान देना चाहिए। बहुत से लोग अपनी किताब की शुरुआत तो अच्छे से कर लेते हैं मगर कहां अंत करना है ये समझ मे नहीं आता। आपकी किताब का अंत ऐसी जगह होना चाहिए जहां पाठक को एक पूर्ण किताब लगे अर्थात लगे कि किताब अपने आप मे सबकुछ समेटे हुए हैं।

कुछ नया लिखे

आज के युग मे हर किसी की आकांक्षा कुछ नया पाने की होती है ऐसे  ही पाठकों की आकांक्षा कुछ नया पढ़ने की होती है। आपको ऐसी कहानी, उपन्यास, कविता, जीवनी लिखनी चाहिए जिसमे कुछ नया सीखने को मिले। आपको समय के साथ अपनी लेखन शैली में बदलाव लाना चाहिए।

प्रतिक्रिया अवश्य ले

अपने पाठकों से अपनी किताब के बारे में प्रतिक्रिया जरूर लेना चाहिए। क्योंकि आपकी किताब मे छिपे आपके हुनर को आपके पाठक ही समझ सकते हैं। तथा अपनी किताब की अच्छाई और बुराई का पता लगाने के लिए पाठकों की प्रतिक्रिया बहुत जरूरी होती है।

संयम रखें

एक लेखक के लिए संयम रखना बहुत जरूरी होता है। यदि आपने अपनी शुरुआत मे कुछ किताबें लिखी हैं जिनसे आपको अच्छा परिणाम नहीं मिल पाया है तो ऐसे में आपको संयम रखना है। क्योंकि कोई भी बडा लेखक केवल एक किताब लिखकर नही बन जाता बल्कि लगातार महनत करके और अपनी पिछली गलतियों को सुधारकर ही वह अच्छा लेखक बन पाता है। इसलिए यदि आप शुरुआत में सफलता पर फोकस ना करें। बल्कि आप अपने काम पर ज्यादा फोकस रखें।

इसे भी पढ़े:-

सफल बिजनेस के गुण

Post a Comment

Previous Post Next Post